नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय भाला फेंक एथलीट ओलंपिक 2022

नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय भाला फेंक एथलीट ओलंपिक 2022 Neeraj Chopra Biography, Javelin Throw in Hindi

नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय, बायोग्राफी, भाला फेंक एथलीट, रिकॉर्ड, टोक्यो ओलंपिक, गोल्ड मैडल विजेता, जाति , धर्म, कहां के रहने वाले है, हाईट, भाले का वजन, [Neeraj Chopra Biography, Javelin Throw in Hindi] (Tokyo Olympic 2021, Gold Medal, Personal Best, Best Throw, World Ranking, Height, Record, Salary, Religion, Caste)

नीरज चोपड़ा एक भारतीय एथलीट हैं जो भाला फेंक खेल में भारत का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्हें भारतीय सेना में सूबेदार, जूनियर कमीशंड ऑफिसर (JCO) के रूप में स्थान दिया गया है.

ओलिंपिक चैंपियन नीरज चोपड़ा ने वर्ल्ड ऐथलेटिक्स चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल जीत लिया है। उन्होंने चौथे थ्रो में 88.13 मीटर दूर भाला फेंककर दूसरी पोजिशन हासिल की। ग्रेनेडा के एंडर्सन पीटर्स ने जैवलिन में गोल्ड मेडल जीता। पीटर्स ने अपने आखिरी थ्रो में 90.54 मीटर दूर भाला फेंका। इस प्रतियोगिता में चेक रिपब्लिक के जे वाल्देच को तीसरा स्थान हासिल हुआ।

नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) की जीत इसलिए खास है क्योंकि 19 साल बाद किसी भारतीय को वर्ल्ड ऐथलेटिक्स चैंपियनशिप में मेडल मिला है। इससे पहले अंजू बॉबी जॉर्ज ने महिला लॉन्ग जंप में 2003 में कांस्य पदक जीता था।

साल 2018 में अपने बेहतरीन खेल प्रदर्शन की बदौलत नीरज चोपड़ा को भारत सरकार द्वारा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलम्पिक में हिस्सा लिया हुआ पहला ओलिंपिक गिल्ड मेडल जीता था भाला फेंक प्रतियोगिता में और अपने पहली बार के भाला फेक थ्रो में 86.65 मीटर के दूरी के साथ फाइनल में जगह बनाई थी ।

नीरज  चोपड़ाका जीवन परिचय |Neeraj Chopra Biography in Hindi
Neeraj Chopra Biography in Hindi

नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय (Neeraj Chopra Biography in Hindi)

Table of Contents

 नाम ( Name)नीरज चोपड़ा
निक नेम (Nick Name )निज्जू
जन्म (Birth)24 दिसंबर,1997
उम्र (Age)23 साल (साल 2021 )
जन्म स्थान (Birth Place)खंडरा, पानीपत, हरियाणा, भारत
गृहनगर (Hometown)पानीपत, हरियाणा, भारत
शिक्षा (Education)BA में स्नातक
कॉलेज (Collage )डीएवी कॉलेज, चंडीगढ़
कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, हरियाणा
राष्ट्रीयता (Nationality)भारतीय
राशि (Zodiac Sig)मकर राशि
जाति (Caste )हिन्दू रोर मराठा
कद (Height)5 फुट 10 इंच
वजन (Weight)65 किग्रा
आंखों का रंग (Eye Colour)काला
बालों का रंग (Hair Colour)काला
कोच (Coach )उवे होन 
पेशा (Profession)जैवलिन थ्रो एथलीट
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)अविवाहित

नीरज चोपड़ा का जन्म एवं शुरुवाती जीवन (Neeraj Chopra Birth & Early Life  )

नीरज चोपड़ा का जन्म 24 दिसंबर,1997 को पानीपत जिले के खंडरा गांव में हुआ था इसके पिता का नाम सतीश कुमार एवं माँ का नाम सरोज देवी है. नीरज अपने पांच भाई बहनो में सबसे बड़े है और इनकी दो बहने भी है।

भाला फेंक एथलीट  नीरज चोपड़ा के पिता खंडरा गांव में किसान है और खेतीबाड़ी करके अपना घर चलाते है और इनकी माँ सरोज देवी एक ग्रहणी है.

नीरज चोपड़ा की शिक्षा ( Neeraj Chopra Education)

नीरज अपनी पढ़ाई के लिए सिर्फ नौवीं कक्षा तक स्कूल गए उसके बाद जैवलिन थ्रो के अभ्यास के लिए देश विदेश के दौरे पर जाना पड़ता था जिसकी वजह से उन्होंने अपनी आगे की पढ़ाई ओपन शिक्षा के माध्यम से जारी रखी और कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से BA की डिग्री हासिल की.

नीरज चोपड़ा का परिवार ( Neeraj Chopra Family)

पिता का नाम (Father’s Name)सतीश कुमार चोपड़ा
माता का नाम (Mother’s Name)सरोज देवी
बहन का नाम (Sister’s Name )संगीता और सरिता

नीरज चोपड़ा के कोच ( Neeraj Chopra Coach) –

नीरज चोपड़ा के मुख्य कोच का नाम उवे होन है जो की जर्मनी के पूर्व पेशेवर जैवलिन एथलीट है हालाँकि नीरज चोपड़ा के पूर्व कोच का नाम गैरी कैलवर्ट था जिनका साल 2018 बीजिंग में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था.

नीरज चोपड़ा करियर भाला फेंक एथलीट (Javelin Throw Athlete)

जब नीरज चोपड़ा की उम्र मात्र ग्यारह साल थी तब इनका वजन 80 किलोग्राम था जो इतनी कम उम्र के बच्चो के हिसाब से बहुत ज्यादा था तो इन्होने अपना वजन कम करने के लिए पानीपत के स्टेडियम में ट्रेनिंग शुरू कर दी और यहां पर इन्होने ऐथलीट जयवीर को जैवलिन थ्रो खेल का अभ्यास करते देखा और वही से इसमें अपना करियर बनाने का ठान लिया।

नीरज ने भाला में अपना प्रशिक्षण भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) पंचकुला, हरियाणा में शुरू किया, और उचित सुविधाओं की कमी के कारण, उन्होंने हरियाणा के पंचकुला में तालुका देवी लाल स्टेडियम में अपना प्रशिक्षण जारी रखा।

वर्षों के प्रशिक्षण के बाद, उन्होंने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय भाला फेंक प्रतियोगिताओं में भाग लिया और देश को कई सम्मान दिलाए। उन्होंने एशियाई खेलों, राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई चैंपियनशिप जैसी प्रतियोगिताओं में विभिन्न पदक जीते हैं।

नीरज चोपड़ा की एथलीथ बनने की कहानी (Neeraj Chopda Story How He Became javelin athlete )

एक मोटे बच्चे के रूप में, 11 साल की उम्र में, उनका वजन 80 किलो था। बॉडी को शेप में लाने के लिए वे छुट्टियों के दौरान पानीपत स्टेडियम गया था।

उनकी पॉकेट मनी लगभग 30 रुपये थी और कई दिनों तक उनके पास एक गिलास जूस के लिए भी पैसे नहीं थे। उन्होंने स्टेडियम पहुंचने के लिए लगभग 17 किलोमीटर का सफर तय किया और अपने चाचा के साथ लोटे , जो पानीपत शहर में काम करते थे।

हालांकि वह अपना वजन कम करने के लिए दौड़ रहे थे , लेकिन उन्हें इसमें मजा नहीं आ रहा था।वह कुछ दूरी पर खड़ा होकर अपने सीनियर जयवीर को देखते थे , जो भाले में हरियाणा का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं, अभ्यास करते हैं।

एक दिन उनके कहने पर नीरज ने भाला आजमाया। उन्हें पता चला कि वह इसे दूर तक फेंक सकता हूं और इस अहसास ने उन्हें भाला फेक एथलीथ बना दिया।

नीरज चोपड़ा रिकॉर्ड (Record)

  • साल 2012 में लखनऊ में आयोजित की गई नेशनल जूनियर चैंपियनशिप में नीरज ने अपनी पहली ऐतिहासिक जीता हासिल की थी इस प्रतियोगिता में  अंडर-16 में भाग लेते हुए इन्होने 68.46 मीटर भाला फेक कर रिकॉर्ड बनाया और इस प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक अपने नाम किया
  • साल 2013 में नेशनल यूथ चैंपियनशिप में हिस्सा लिया और अपने शानदार खेल की बदौलत आईएएएफ वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में अपनी जगह बनाई।
  • साल 2015 में इंटर यूनिवर्सिटी चैंपियनशिप के दौरान इन्होने  81.04 मीटर की दूरी का भाला फेक कर एज ग्रुप में एक नया रिकॉर्ड स्थापित किया।
  • 2016 में जूनियर विश्व चैंपियनशिप में नीरज ने हिस्सा लिया और 86.48 मीटर भाला फेंक कर एक ननया रिकॉर्ड बनाकर स्वर्ण पदक जीता।
  • साल 2016 में नीरज ने दक्षिण एशियाई खेलों में अपने शानदार 82.23 मीटर के जेवलिन थ्रो के साथ स्वर्ण पदक जीता था।अपने 82.23 मीटर के जेवलिन थ्रो के साथ इन्होने भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड की बराबरी की
  • साल 2017 में एशियाई एथलेटिक चैंपियनशिप 2017 में 85.23 मीटर के थ्रो के साथ एक और स्वर्ण पदक जीता।
  • मई 2018 में, उन्होंने दोहा डायमंड लीग में 87.43 मीटर के थ्रो के साथ फिर से राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ा।
  • 27 अगस्त 2018 को, नीरज ने 2018 एशियाई खेलों में पुरुषों की भाला फेंक में स्वर्ण जीतने के लिए 88.06 मीटर की दूरी तक भाला फेंका  और अपने पिछले रिकॉर्ड को बेहतर करते हुए एक नया भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया।

नीरज चोपड़ा टोक्यो ओलंपिक में (Tokyo Olympic 2020)

साल 2021 में जापान के टोक्यो शहर में आयोजित हो रहे ओलम्पिक में हिस्सा लेकर बेहतरीन खेल का प्रदर्शन करते हुए फाइनल में अपनी जगह पक्की कर चुके है और ओलम्पिक में पदक के मजबूत दावेदार माने जा रहे है।

नीरज ने 86.65 मीटर दूरी तक भाला फेक कर फाइनल में अपनी जगह पक्की की है और इसके साथ साथ जेवलिन थ्रो के खेल में फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय होने का रिकॉर्ड भी बनाया है।

नीरज का आगला मैच जो की फाइनल मैच है 7 अगस्त को 4:30 बजे था । नीरज ने फाइनल मैच में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतकर भारतीयों का टोक्यो ओलम्पिक में स्वर्ण पदक जीतने का सपना पूरा कर दिया।नीरज ने फाइनल मैच में 87.58 मीटर का दूसरा थ्रो करके स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया।

नीरज चोपड़ा वर्ल्ड रैंकिंग (World Ranking)

आज के समय में नीरज चोपड़ा की वर्ल्ड रैंकिंग जैवलिन थ्रो की कैटेगरी में चौथे नंबर पर है। इसके अलावा उन्होंने ढेरों अवार्ड भी जीते है।

नीरज चोपड़ा को मिले हुए पुरस्कार (Medal and Award)

सालमैडल व पुरस्कारपदक
2012राष्ट्रीय जूनियर चैंपियनशिपस्वर्ण पदक
2013राष्ट्रीय युवा चैंपियनशिपरजत पदक
2016तीसरा विश्व जूनियर अवार्डस्वर्ण पदक
2016एशियाई जूनियर चैंपियनशिपरजत पदक
2016दक्षिण एशियाई खेलस्वर्ण पदक
2017एशियाई चैंपियनशिपस्वर्ण पदक
2018एशियाई खेल चैंपियनशिप स्वर्ण गौरवस्वर्ण पदक
2018गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलस्वर्ण पदक
2018 अर्जुन पुरस्कार

नीरज चोपड़ा आर्मी ऑफिसर (Neeraj Chopra Army Officer)

नीरज चोपड़ा जेवलिन थ्रो एथिलीट बनने से पहले इंडियन आर्मी में एक सूबेदार के रूप में काम करते थे .उनकी पोस्ट इंडियन आर्मी में जूनियर कमीशन्ड ऑफिसर की थी , जब उनकी उम्र मात्र 19 साल थी तब वह इतनी कम उम्र में राइफल चलाया करते थे।

नीरज चोपड़ा के बारे में रोचक तथ्य (Interesting Fact )

  • 2016 में अंडर-20 वर्ल्ड चैंपियनशिप जीतने और राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाने पर फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने उन्हें सोशल मीडिया पर बधाई दी।
  • उन्हें 2016 में भारतीय सेना में जूनियर कमीशंड ऑफिसर (सूबेदार रैंक) के रूप में नियुक्त किया गया था।
  • उन्हें एशियाई खेलों 2018 में भारत के ध्वजवाहक के रूप में चुना गया था।
  • 2018 में 68 वें अखिल भारतीय इंटर-सर्विसेज एथलेटिक्स में उनकी दाहिनी कोहनी में चोट के कारण 2019 में उनकी सर्जरी हुई।
  • 31 मार्च 2020 को उन्होंने कोरोनावायरस महामारी के बीच पीएम केयर्स फंड में 2 लाख रूपये दान दिए ।
  • उन्होंने टोक्यो ओलंपिक 2020 में भाला फेंक में भारत का प्रतिनिधित्व किया जो 2021 में कोरोनावायरस महामारी के कारण आयोजित किया गया था। एक इंटरव्यू के दौरान, नीरज के चाचा ने साझा किया कि नीरज ने टोक्यो ओलंपिक 2020 से पहले एक साल के लिए अपना फोन बंद रखा था ताकि किसी भी तरह का ध्यान भंग न हो।

नीरज चोपड़ा की कुल संपत्ति (Neeraj Chopra  Net Worth)

नीरज की कमाई आय का मुख्य जरिया भाला फेंकने वाले के रूप में उनका सफल करियर है। इसके अलावा, उन्हें JSW स्पोर्ट्स एंड स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) से बहुत समर्थन मिलता है, जिसने उनके भाग्य को बढ़ाने में मदद की है।

कुल संपत्ति (Net Worth 2021)$ 5 मिलियन
कुल संपत्ति रुपयों में (Net Worth In Indian Rupees)36 करोड़ रूपये
महीने की आय (Monthly Income And Salary)40 लाख
सालाना आय (Annual Income)5 करोड़

FAQ

नीरज चोपड़ा ने कितने मीटर वाला फेंका था?

87.58 मीटर का

नीरज चोपड़ा का भला कितने किलो का था?

800 ग्राम

नीरज चोपड़ा के कोच का नाम क्या है?

मुख्य कोच -उवे होन

नीरज चोपड़ा का गावं कौन सा है?

पानीपत जिले का खंडरा गांव

नीरज चोपड़ा की जाति क्या है ?

नीरज चोपड़ा एक हिन्दू रोर मराठा है

यह भी जाने :-

अंतिम कुछ शब्द –

दोस्तों मै आशा करता हूँ आपको ”नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय भाला फेंक एथलीट ओलंपिक 2022 Neeraj Chopra Biography, Javelin Throw in Hindi” वाला Blog पसंद आया होगा अगर आपको मेरा ये Blog पसंद आया हो तो अपने दोस्तों और अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करे लोगो को भी इसकी जानकारी दे

अगर आपकी कोई प्रतिकिर्याएँ हे तो हमे जरूर बताये Contact Us में जाकर आप मुझे ईमेल कर सकते है या मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है जल्दी ही आपसे एक नए ब्लॉग के साथ मुलाकात होगी तब तक के मेरे ब्लॉग पर बने रहने के लिए ”धन्यवाद

283272931b5637e84fd56e27df3beb17?s=250&d=mm&r=g