गौतम अडानी के  दुनिया के तीसरे नंबर के अमीर बनने तक की कहानी 

अडानी की कुल संपत्ति

ब्लूमबर्ग बिलियनेयर इंडेक्स के अनुसार गौतम अडानी की कुल संपत्ति 67.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर (करीब 4.93 लाख करोड़ रुपये) है. धीरूभाई अंबानी की तरह गौतम अडानी भी पहली पीढ़ी के कारोबारी हैं.

अडानी का जन्म 

उनका जन्म 1962 में गुजरात के रतनपोल में हुआ था. वह अपनी स्कूली शिक्षा भी पूरी नहीं कर पाए.

मुंबई जाना 

 गौतम अडानी को सिर्फ 16 साल की उम्र में कारोबार में हाथ आजमाने के लिए मुंबई जाना पड़ा.

हीरे का कारोबार

साल 1978 में वह मुंबई गए और हीरे का कारोबार शुरू किया. लेकिन 1981 में वह गुजरात लौट गए और अपने भाई की प्लास्टिक की फैक्ट्री में काम शुरू किया

अडानी एंटरप्राइजेज की शुरुआत

साल 1988 में उन्होंने कमोडिटी का एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट करने वाली कंपनी के रूप में अडानी एंटरप्राइजेज की शुरुआत की.

तकदीर बदलना 

साल 1995 का साल गौतम अडानी के लिए बेहद सफल साबित हुआ, जब उनकी कंपनी को मुंद्रा पोर्ट (Mundra Port) के संचालन का कॉन्ट्रैक्ट मिला.

तकदीर बदलना 

गुजरात सरकार ने कच्छ में मुंद्रा पोर्ट एवं एसईजेड का संचालन किसी निजी कंपनी को देने का फैसला किया और यह गौतम अडानी के जीवन का एक बड़ा मोड़ साबित हुआ.

पोर्ट का नियंत्रण

उन्हें इस पोर्ट का नियंत्रण मिला और आज यह निजी क्षेत्र का सबसे बड़ा पोर्ट बन गया है. 1996 में अडानी पावर लिमिटेड अस्तित्व में आई.

विदेश में  कारोबार

उन्होंने ऑस्ट्रेलिया और इंडोने​शिया में माइंस, पोर्ट और रेलवे जैसे कारोबार में कदम रखा. साल 2010 में उन्होंने इंडोनेशिया में माइनिंग कारोबार शुरू किया.

कोल् माईन खरीदना 

साल 2011 में अडानी ग्रुप ने ऑस्ट्रेलिया के अबॉट पॉइंट कोल टर्मिनल को  2.72 अरब डॉलर में खरीदा.

अडानी ग्रुप का कारोबार

आज अडानी ग्रुप का कारोबार एनर्जी, पोर्ट, लॉजिस्टिक्स, माइनिंग, गैस, डिफेंस एवं एयरोस्पेस और एयरपोर्ट जैसे विविध क्षेत्रों तक फैला है.

शेयर बाजार में लिस्टेड

अडानी एंटरप्राइजेज, अडानी ग्रीन एनर्जी, अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन, अडानी पावर, अडानी ट्रांसमिशन और अडानी टोटल गैस लिमिटेड.

कंपनियों की वैल्यू 

अडानी ग्रुप की 6 कंपनियां मार्केट कैप के हिसाब से भारत की 100 सबसे ज्यादा वैल्यू वाली कंपनियों में शामिल हो गई हैं.

साल 2020 और 2021

इस दौरान गौतम अडानी ने कई बंदरगाहों, एयरपोर्ट्स, डाटा सेंटर्स, सोलर पीवी मैन्युफैक्चरिंग, पावर एंड कोल जनरेशन कैपेसिटी आदि को अपनी कंपनी के एसेट्स में जोड़ा है.

फॉर्च्यून ब्रांड के उत्पाद

साल 1999 में विल्मर इंटरनेशनल के साथ एक जॉइंट वेंचर बनाया जिसके द्वारा एफएमजीसी कारोबार किया जाता है. यह देश की सबसे तेजी से बढ़ती फूड एफएमसीजी कंपनियों में से एक है

सबसे बड़ी डील

हाल में अडानी समूह की कंपनी अडानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड  ने जापान के सॉफ्टबैंक और भारत के भारती समूह से एक बड़ी डील की है. यह सौदा 3.5 अरब अमेरिकी डॉलर (करीब 25,500 करोड़ रुपये) का है.

सात एयरपोर्ट

लुटियंस दिल्ली में एक 400 करोड़ रुपये की हवेली खरीदी थी, जो 3.4 एकड़ भूमि में फैली हुई है। बता दे कि इस संपत्ति को ग्रुप द्वारा सबसे महंगी बोली में से एक माना जाता है।

दिल्ली में 400 करोड़ का घर

लुटियंस दिल्ली में एक 400 करोड़ रुपये की हवेली खरीदी थी, जो 3.4 एकड़ भूमि में फैली हुई है। बता दे कि इस संपत्ति को ग्रुप द्वारा सबसे महंगी बोली में से एक माना जाता है।

दिल्ली में 400 करोड़ का घर

लुटियंस दिल्ली में एक 400 करोड़ रुपये की हवेली खरीदी थी, जो 3.4 एकड़ भूमि में फैली हुई है। बता दे कि इस संपत्ति को ग्रुप द्वारा सबसे महंगी बोली में से एक माना जाता है।

दिल्ली में 400 करोड़ का घर

लुटियंस दिल्ली में एक 400 करोड़ रुपये की हवेली खरीदी थी, जो 3.4 एकड़ भूमि में फैली हुई है। बता दे कि इस संपत्ति को ग्रुप द्वारा सबसे महंगी बोली में से एक माना जाता है।

दिल्ली में 400 करोड़ का घर

लुटियंस दिल्ली में एक 400 करोड़ रुपये की हवेली खरीदी थी, जो 3.4 एकड़ भूमि में फैली हुई है। बता दे कि इस संपत्ति को ग्रुप द्वारा सबसे महंगी बोली में से एक माना जाता है।