रवींद्रनाथ टैगोर की जीवनी,नोबेल पुरस्कार।Rabindranath Tagore

रवींद्रनाथ टैगोर की जीवनी ,नोबेल पुरस्कार ।Rabindranath Tagore Biography in Hindi

रवींद्रनाथ टैगोर का जीवन परिचय ,जयंती ,की जीवनी ,इतिहास ,कहानी ,कविताये ,मृत्यु ,निधन ,अवार्ड (Rabindranath Tagore Biography In Hindi, history ,Age, education ,First Novel ,poems ,Height, nobel prize ,Caste, family ,Career, bengali romantic quotes by rabindranath tagore , rabindranath tagore artist ,award ,Death )

रवींद्रनाथ टैगोर एक कवि, कथाकार , उपन्यासकार , नाटककार , निबन्धकार ,चित्रकार और कलाकार थे, जिन्होंने 19वीं सदी के अंत और 20वीं सदी की शुरुआत में संगीत, बंगाली साहित्य और भारतीय कला को फिर से तैयार किया। 

1913 में, रवींद्रनाथ टैगोर साहित्य में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले गैर-यूरोपीय थे। रवींद्रनाथ टैगोर को ‘बंगाल का बार्ड’ भी कहा जाता था।

रवींद्रनाथ टैगोर
रवींद्रनाथ टैगोर

रवींद्रनाथ टैगोर का जीवन परिचय

Table of Contents

नाम (Name)रवींन्द्रनाथ टैगोर
असली नाम (Real Name )रवीन्द्रनाथ ठाकुर
निक नेम (Nick Name )भानुसिंघा ,गुरुदेव ,बंगाल का बार्ड 
प्रसिद्द (Famous for )कवि होने के नाते साहित्य में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित
जन्म तारीख (Date of birth) 7 मई 1861
जन्म स्थान (Place of born )कोलकाता , पश्चिम बंगाल ,ब्रिटिश भारत
गृहनगर (Hometown )कोलकाता , पश्चिम बंगाल ,ब्रिटिश भारत
मृत्यु तिथि (Date of Death )7 अगस्त, 1941
मृत्यु का स्थान (Place of Death) कलकत्ता भारत
मृत्यु का कारण (Death Cause)लंबे समय से चली आ रही शरीर की बीमारी
उम्र( Age)80 वर्ष (मृत्यु के समय )
शिक्षा (Education) कानून की पढाई
स्कूल  (School)इंग्लैंड के एक स्कूल में
विश्वविद्यालय (University ) यूनिवर्सिटी कॉलेज, लंदन
पेशा (Profession)  कथाकार , उपन्यासकार , नाटककार , निबन्धकार और चित्रकार
भाषा (Language) बंगाली, अंग्रेजी
उपाधि (Title )विश्व कवि
पुरस्कार (Award)साहित्य में नोबेल पुरस्कार (1913
आँखों का रंग (Eye Color)काला
बालो का रंग( Hair Color)सफ़ेद
धर्म (Religion) हिन्दू
जाति (Caste )बंगाली ब्राह्मण 
नागरिकता(Nationality)भारतीय
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)  शादीशुदा
शादी की तारीख (Marriage Date )साल 1883

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म, प्रारंभिक जीवन (Rabindranath TagoreBirth, Early Life)

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म 7 मई 1861 को देबेंद्रनाथ टैगोर और शारदा देवी के घर कलकत्ता में जोरासांको हवेली (टैगोर परिवार का पैतृक घर) में हुआ था। 

Rabindranath Tagore in His Childhood
बचपन में रवींद्रनाथ टैगोर

उनके पिता, देवेंद्रनाथ टैगोर, एक बंगाली दार्शनिक और धार्मिक विद्वान थे, जिन्होंने 1848 में ब्रह्म धर्म की स्थापना की थी। उनके पिता की मृत्यु 19 जनवरी 1905 को 87 वर्ष की आयु में हुई थी।

वह तेरह बच्चों में सबसे छोटा बेटा था। हालांकि टैगोर परिवार में कई सदस्य थे, लेकिन उनका पालन-पोषण ज्यादातर नौकरों और नौकरानियों द्वारा किया गया था क्योंकि उन्होंने अपनी माँ को खो दिया था, जबकि वे अभी भी बहुत छोटे थे और उनके पिता एक व्यापक यात्री थे। 

Rabindranath Tagores Father Debendranath Tagore 1
रवींद्रनाथ टैगोर पिता देवेंद्रनाथ टैगोर

बहुत कम उम्र में, रवींद्रनाथ टैगोर बंगाल पुनर्जागरण का हिस्सा थे, जिसमें उनके परिवार ने सक्रिय भागीदारी की थी। वह एक बाल विलक्षण भी थे क्योंकि उन्होंने 8 साल की उम्र में कविताएं लिखना शुरू कर दिया था।

उन्होंने एक निविदा में कला कार्यों की रचना भी शुरू कर दी थी। और सोलह वर्ष की आयु तक उन्होंने छद्म नाम भानुसिंह के तहत कविताएं प्रकाशित करना शुरू कर दिया था। उन्होंने 1877 में लघु कहानी ‘भिखारिणी’ और 1882 में कविता संग्रह ‘संध्या संगीत’ भी लिखा।

उन्होंने कालिदास की शास्त्रीय कविता को पढ़कर प्रेरणा ली और अपनी खुद की शास्त्रीय कविताओं के साथ आने लगे। उनके कुछ अन्य प्रभाव और प्रेरणा उनके भाइयों और बहनों से मिलीं। 

उनके बड़े भाई द्विजेंद्रनाथ एक कवि और दार्शनिक थे, उनके एक अन्य भाई, सत्येंद्रनाथ, बहुत सम्मानजनक स्थिति में थे। उनकी बहन स्वर्णकुमारी एक प्रसिद्ध उपन्यासकार थीं।

 टैगोर बड़े पैमाने पर होम-स्कूली थे और उन्हें उनके भाई-बहनों द्वारा जिमनास्टिक, मार्शल आर्ट, कला, शरीर रचना, साहित्य, इतिहास और गणित सहित कई अन्य विषयों में प्रशिक्षित किया गया था। 

1873 में, वह अपने पिता के साथ गए और कई महीनों तक देश का दौरा किया। इस यात्रा के दौरान, उन्होंने कई विषयों पर ज्ञान अर्जित किया। उनके अमृतसर प्रवास ने उन्हें सिख धर्म के बारे में जानने का मार्ग प्रशस्त किया,

रबिन्द्रनाथ टैगोर की शिक्षा ( Rabindranath Tagore Education )

रवींद्रनाथ टैगोर की पारंपरिक शिक्षा ब्राइटन, ईस्ट ससेक्स, इंग्लैंड में एक पब्लिक स्कूल में शुरू हुई। उन्हें वर्ष 1878 में इंग्लैंड भेजा गया था क्योंकि उनके पिता चाहते थे कि वे बैरिस्टर बनें। 

320px Tagore in London 1879
रवींद्रनाथ टैगोर अपनी युवा अवस्था में

बाद में उनके कुछ रिश्तेदारों जैसे उनके भतीजे, भतीजी और भाभी ने उनके साथ इंग्लैंड में रहने के दौरान उनका समर्थन किया। रवींद्रनाथ ने हमेशा औपचारिक शिक्षा का तिरस्कार किया था और इस तरह अपने स्कूल से सीखने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। 

बाद में उन्हें लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज में दाखिला मिला, जहाँ उन्हें कानून सीखने के लिए कहा गया। लेकिन उन्होंने एक बार फिर पढ़ाई छोड़ दी और शेक्सपियर की कई कृतियों को अपने दम पर सीखा। 

अंग्रेजी, आयरिश और स्कॉटिश साहित्य और संगीत का सार सीखने के बाद, वह भारत लौट आए और मृणालिनी देवी से शादी कर ली जब वह सिर्फ 10 साल की थीं।

रबिन्द्रनाथ टैगोर का परिवार ( Rabindranath Tagore Family )

Rabindranath Tagore at The Wedding of His Son Rathindranath Tagore second from left Daughter in law Pratima second from right and two Daughters in 1909 768x561 1
रवींद्रनाथ टैगोर अपने बेटे की शादी में रवींद्रनाथ टैगोर बाएं से दूसरे स्थान पर बहू प्रतिमा दाएं से दूसरी और 1909 में दो बेटियां
पिता का नाम (Father)देवेंद्रनाथ टैगोर
माँ का नाम (Mother ) शारदा देवी
भाई का नाम (Brother )द्विजेंद्रनाथ (सबसे बड़े भाई ) ,सत्येंद्रनाथ ,ज्योतिरिंद्रनाथ ,हेमेंद्रनाथ
बहन का नाम (Sister ) सौदामिनी ( सबसे बड़ी बहन ) ,स्वर्णकुमारी ,सुकुमारी और शरतकुमारी
पत्नी का नाम (Wife )मृणालिनी देवी
बच्चो के नाम (Children )रेणुका टैगोर, शमींद्रनाथ टैगोर, मीरा टैगोर, रथिंद्रनाथ टैगोर और मधुरिलता टैगोर

रबिन्द्रनाथ टैगोर की शादी (Rabindranath Tagore Marriage)

Rabindranath Tagore Mrinalini Devi 1883
रवींद्रनाथ टैगोर अपनी पत्नी मृणालिनी देवी के साथ साल 1883

टैगोर ने साल 1883 में मृणालिनी देवी से शादी की जो उस समय 10 वर्ष की थी और शादी के बाद दंपति के 5 बच्चे रेणुका टैगोर, शमींद्रनाथ टैगोर, मीरा टैगोर, रथिंद्रनाथ टैगोर और मधुरिलता टैगोर थे लेकिन बचपन में ही 2 बच्चो की मृत्यु हो गई थी । 

साल 1890 में, टैगोर ने शेलैदाहा (वर्तमान में बांग्लादेश में) में अपनी कविताये लिखना शुरू किया और उनकी पत्नी भी साल 1898 में अपने बच्चों के साथ उनके साथ जुड़ गई। 

शांतिनिकेतन की स्थापना ( Rabindranath Tagore santiniketan)

रवीन्द्रनाथ के पिता ने शांतिनिकेतन में काफी जमीन खरीदी थी। अपने पिता की संपत्ति में एक प्रायोगिक स्कूल स्थापित करने के विचार के साथ, उन्होंने 1901 में शांतिनिकेतन में आधार स्थानांतरित कर दिया और वहां एक आश्रम की स्थापना की। 

यह संगमरमर के फर्श वाला एक प्रार्थना कक्ष था और इसका नाम ‘मंदिर’ रखा गया था। वहाँ कक्षाएं पेड़ों के नीचे आयोजित की जाती थीं और शिक्षण की पारंपरिक गुरु-शिष्य पद्धति का पालन किया जाता था।

 रवीन्द्रनाथ टैगोर को आशा थी कि पढाई करने की पुराने तरीको को बदल एक नयापन देने से शायद समाज में एक नया बदलाव देखने को मिले।

दुर्भाग्य से, उनकी पत्नी और उनके दो बच्चों की शांतिनिकेतन में रहने के दौरान मृत्यु हो गई और इससे रवींद्रनाथ परेशान हो गए। इस बीच, उनकी रचनाएँ बंगाली के साथ-साथ विदेशी पाठकों के बीच अधिक से अधिक लोकप्रिय होने लगीं।

रवींद्रनाथ टैगोर की कविताये (Rabindranath Tagore poem )

  1. कवि काहिनी -1878
  2. बनफूल -1881
  3. भग्न हृदय -1881
  4. संध्या संगीत -1882
  5. प्रभात संगीत -1882
  6. छबि ओ गान -1884
  7. शैशव संगीत -1884
  8. भानुसिंह ठाकुरेर पदावली -1884
  9. कड़ि ओर कोमल -1887
  10. मानसी 1890
  11. सोनार तरी 1893
  12. विदाय अभिशाप 1894
  13. नदी 1896
  14. चित्रा 1896
  15. चैताली 1896
  16. कणिका 1899
  17. क्षणिका 1899
  18. कल्पना -1900
  19. काहिनी 1900
  20. कथा 1900
  21. नैवेद्य 1901
  22. स्मरण 1903
  23. शिशु 1903
  24. उत्सर्ग 1903
  25. खेया 1906
  26. गीतांजलि 1910
  27. गीतांजलि : सॉन्ग ऑफ़रिंग्स 1912 (गीतांजलि का अंग्रेजी गद्यानुवाद)
  28. गीतिमाल्य 1914
  29. गीतालि 1914
  30. बलाका 1916
  31. पलातका -1918
  32. लिपिका -1922
  33. शिशु भोलानाथ -1922
  34. पूरबी 1925
  35. पथिक (‘पूरबी’ का उत्तरार्ध) -1925
  36. प्रवाहिनी -1925
  37. लेखन 1927
  38. महुया 1929
  39. वनवाणी 1931
  40. परिशेष 1932
  41. पुनश्च 1933
  42. विचित्रिता 1933
  43. शेष सप्तक 1935
  44. वीथिका 1935
  45. पत्रपुट 1936
  46. श्यामली 1936
  47. खापछाड़ा 1937
  48. छड़ार छबि 1937
  49. प्रान्तिक 1938
  50. सेँजुति 1938
  51. प्रहासिनी 1938
  52. आकाश प्रदीप 1939
  53. नवजातक 1940
  54. सानाइ 1940
  55. रोगशय्याय 1940
  56. आरोग्य 1941
  57. जन्मदिने 1941
  58. छड़ा 1941
  59. शेषलेखा 1941

रवींद्रनाथ टैगोर की लघुकथाये (Rabindranath Tagore short story )

  1. भिखारिणी
  2. घाटेर कथा घाट की कथा
  3. राजपथेर कथा राजपथ की कथा
  4. देना-पाउना दहेज
  5. पोस्टमास्टर
  6. गिन्नि
  7. सुभा
  8. ब्यबधान व्यवधान
  9. ताराप्रसन्नेर कीर्ति (ताराप्रसन्न की कीर्ति)
  10. बाबू की चरस
  11. सम्पत्ति-समर्पण
  12. दालिया
  13. कंकाल
  14. मुक्तिर उपाय (मुक्ति का उपाय)
  15. त्याग
  16. एकरात्रि (एक रात)
  17. एकटा आषाढ़े गल्प
  18. जीबन ओ मृत (जीवित और मृत)
  19. स्वर्णमृग
  20. रीतिमत नावेल
  21. जय-पराजय
  22. काबुलिवाला
  23. महामाया
  24. रामकानाइयेर निर्बुद्धिता (रामकन्हाई की मूर्खता)
  25. ठाकुरदा (पितामह/दादा)
  26. दानप्रतिदान
  27. सम्पादक
  28. मध्यबर्तनी (मध्यवर्तिनी)
  29. असम्भब कथा
  30. शास्ति (सजा)
  31. एकटि क्षुद्र पुरातन गल्प
  32. समाप्ति
  33. समस्यापूरण
  34. खाता (कॉपी)
  35. अनधिकार प्रबेश
  36. मेघ ओ रौद्र (धूप और छाया)
  37. प्रायश्चित
  38. बिचारक
  39. निशीथे (आधी रात में)
  40. आपद (आफत)
  41. दिदि (दीदी)
  42. मानभंजन
  43. प्रतिहिंसा
  44. अतिथि
  45. दुराशा
  46. पुत्रयज्ञ
  47. डिटेक्टिव (जासूस)
  48. अध्यापक
  49. राजटीका
  50. मनिहारा
  51. दृष्टिदान
  52. सदर ओ अन्दर (बाहर और भीतर)
  53. उद्धार
  54. फेल
  55. शुभदृष्टि
  56. उलुखरेर बिपद (तिनके का संकट)
  57. प्रतिबेशिनी (पड़ोसिन)
  58. दर्पहरन
  59. माल्यदान
  60. कर्मफल
  61. गुप्तधन
  62. माष्टर मोशाय (मास्टर साहब)
  63. रासमनिर छेले (रासमणि का बेटा)
  64. हालदार गोष्ठी (हालदार परिवार)
  65. हैमन्ती
  66. बोष्टमी (वैष्णवी)
  67. स्त्रीर पत्र (पत्नी का पत्र)
  68. भाइफोँटा
  69. शेषेर रात्रि (अंतिम रात)
  70. अपरिचिता
  71. तपस्विनी
  72. पात्र ओ पात्री
  73. नामंजुर गल्प (विचित्र कहानी)
  74. संस्कार
  75. बलाय (बला)
  76. चित्रकर
  77. चोराइ धन (चोरी का धन)
  78. रबिबार (रविवार)
  79. शेष कथा
  80. लेबोरेटरी
  81. प्रगतिसंहार (कापुरुष)
  82. शेष पुरस्कार
  83. पणरक्षा (प्रतिज्ञा)
  84. क्षुधितपाषाण
  85. यज्ञेश्बरेर यज्ञ (यज्ञेश्वर का यज्ञ)
  86. दुर्बुद्धि
  87. छुटि (छुट्टी)

रवींद्रनाथ टैगोर के गीत , नाटक, नृत्यनाट्य ( Rabindranath Tagore lyricism, drama, dance )

  1. रुद्रचंड (लघु नाटिका) -1881
  2. वाल्मीकि प्रतिभा (संगीत नाटक) -1881
  3. कालमृगया (संगीत नाटक) -1882 (वाल्मीकि प्रतिभा के 1886 के संस्करण में समाहित)
  4. नलिनी -1884
  5. प्रकृतिर प्रतिशोध -1884
  6. मायार खेला -1888
  7. राजा ओ रानी -1889
  8. विसर्जन (राजर्षि उपन्यास पर आधारित) -1890 (1893 एवं 1926 में पुनर्लिखित)
  9. गोड़ाय गलद -1892
  10. चित्रांगदा -1892
  11. विदाय अभिशाप (काव्य नाटक) 1894
  12. मालिनी -1896
  13. बैकुंठेर खाता (बैकुंठ का पोथा) -1897
  14. पंचभूतेर डायरी -1897
  15. काहिनी (नाट्य कविताएँ) -1900
  16. हास्य कौतुक -1907
  17. व्यंग्य कौतुक -1907
  18. शारदोत्सव -1908
  19. मुकुट -1908
  20. प्रायश्चित्त -1909
  21. राजा -1910
  22. अचलायतन -1911
  23. डाकघर -1912
  24. फाल्गुनी -1916
  25. गुरु (अचलायतन का भिन्न रूपांतर) -1918
  26. स्वर्ग-मर्त्य -1919
  27. अरूप रतन (राजा का संक्षिप्त रूपांतर) -1920
  28. ऋणशोध -1921
  29. मुक्त धारा -1922
  30. वसन्त -1923
  31. रथयात्रा -1923
  32. रक्त करबी (लाल कनेर) -1924
  33. शोध बोध -1925
  34. गृह प्रवेश -1925
  35. शेष वर्षण -1925
  36. सुंदर -1926
  37. चिरकुमार सभा -1926
  38. नटीर पूजा -1926
  39. नटराज -1927
  40. परित्राण -1927
  41. ऋतुरंगशाला (नटराज का संशोधित रूप) -1927
  42. शेष रक्षा (गोड़ाय जलद का पुनर्लिखित रूप) -1928
  43. तपती (राजा ओ रानी पर आधारित) -1929
  44. नवीन -1931
  45. कालेर यात्रा -1932
  46. तासेर देश (ताश का देश) -1933
  47. चण्डालिका -1933
  48. बंसरी (बाँसुरी) -1933
  49. श्रावण गाथा -1934
  50. चित्रांगदा -1936
  51. परिशोध -1938
  52. मुक्तिर उपाय -1938
  53. स्वर्गे चक्रटेबिल बैठक (स्वर्ग का प्रहसन) -1938
  54. श्यामा -1939

रवींद्रनाथ टैगोर के निबन्ध ( Rabindranath Tagore essay )

  1. रामायणी कथा -1878
  2. चीने मरनेर व्यवसाय 1881
  3. राजनीतिक द्विधा 1893
  4. ऐतिहासिक निबंध 1898
  5. काव्येर उपेक्षिता 1899
  6. कुमारसंभव ओ शकुंतला 1901
  7. शकुंतला 1902
  8. साहित्येर तात्पर्य 1903
  9. रंगमंच 1903
  10. स्वदेशी समाज 1904
  11. अवस्था ओ व्यवस्था 1905
  12. सौंदर्य बोध -1906
  13. विश्व साहित्य 1907
  14. दुःख -1908
  15. उत्सव -1908
  16. आत्मपरिचय -1908
  17. हिन्दू ब्राह्म -1908
  18. तपोवन 1909
  19. भारतवर्षीय इतिहासेर धारा 1912
  20. स्वराज साधन 1925
  21. शुद्र धर्म 1926
  22. मानव सत्य 1933
  23. मानुषेर धर्म (मानव धर्म) -1933
  24. सभ्यतार संकट -1940

रवींद्रनाथ टैगोर के प्रमुख निबन्ध संग्रह ( Rabindranath Tagore Major Essay Collections )

  1. साहित्य 1907
  2. धर्म 1908
  3. विचित्र प्रबंध 1909
  4. शांतिनिकेतन दो भागों में (1909-1915)
  5. राष्ट्रवाद 1917
  6. साहित्येर पथे 1937
  7. कालान्तर 1938

रवींद्रनाथ टैगोर के उपन्यास (Rabindranath Tagore novels )

  • बाउ-ठाकुरानी की टोपी ( 1983 )
  •  राजर्षि 
  •  चोकर बाली (1903)
  • नौकाडुबी (1906)
  • प्रजापति की निर्बंध (1908)
  •  गोरा (1910)
  • घरे बैरे (1917)
  • चतुरंगा ( 1917) 
  •  संचार (1929)
  • द लास्ट पोएम (1929)
  •  टू सिस्टर्स (1933)
  • माल्च (1934)
  • फोर चैप्टर (1934)

रवींद्रनाथ टैगोर आर्टिस्ट (Rabindranath Tagore Artistic )

रवींद्रनाथ टैगोर ने साठ साल की उम्र में ड्राइंग और पेंटिंग शुरू कर दी थी। फ्रांस के कलाकारों के प्रोत्साहन के बाद, टैगोर के काम ने पेरिस में पहली बार प्रदर्शन किया। 

ऐसा कहा जाता है कि टैगोर लाल-हरे रंग के अंधे थे और उनकी कलाकृतियां अजीब रंग योजनाओं को दर्शाती हैं। 1900 में, टैगोर ने जगदीशचंद्र बोस को अपने चित्रों के बारे में लिखा। 

टैगोर ने पेंटिंग से अपना नाम वापस ले लिया क्योंकि वह पेंसिल से ज्यादा इरेज़र का इस्तेमाल कर रहे थे और उनकी कलाकृति से असंतुष्ट थे।

 वर्तमान में, टैगोर की 102 कृतियों को भारत की नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न आर्ट सूची में इसके संग्रह में सूचीबद्ध किया गया है।

रवींद्रनाथ टैगोर – नोबेल पुरस्कार पाने वाले पहले भारतीय (Rabindranath Tagore nobel prize )

 1913 में, टैगोर साहित्य में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले गैर-यूरोपीय और गीतांजलि के लिए थिओडोर रूजवेल्ट के बाद नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले दूसरे गैर-यूरोपीय बन गए , जो उनका सबसे प्रसिद्ध कविता संग्रह है।

रवींद्रनाथ टैगोर ने नाइटहुड को अस्वीकार कर दिया

बंगाली कवि को 1915 में किंग जॉर्ज पंचम द्वारा नाइटहुड से सम्मानित किया गया था, हालांकि, उन्होंने 1919 के जलियांवाला बाग हत्याकांड के बाद इसे अस्वीकार कर दिया था।

रवींद्रनाथ टैगोर के नोबेल पुरस्कार की चोरी

25 मार्च, 2004 को, विश्व भारती विश्वविद्यालय, शांतिनिकेतन के संग्रहालय की सुरक्षा तिजोरी से टैगोर का नोबेल पदक और नोबेल प्रशस्ति पत्र, कवि के कई अन्य निजी सामानों के साथ चोरी हो गए थे।

दिसंबर 2004 में, स्वीडिश सरकार ने विश्वभारती विश्वविद्यालय को टैगोर के नोबेल पुरस्कार की दो प्रतिकृतियां भेंट कीं, एक सोने की और दूसरी कांस्य की।

नवंबर 2016 में, प्रदीप बाउरी नाम के एक बाउल गायक को चोरी में कथित संलिप्तता के लिए पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले से गिरफ्तार किया गया था। एक बांग्लादेशी नागरिक, जिसकी पहचान मोहम्मद हुसैन शिपुल के रूप में हुई, साजिश का मास्टरमाइंड था और दो यूरोपीय भी चोरी में शामिल थे।

रवींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु (Rabindranath Tagore Death )

Last pic of Tagore
टैगोर की आखिरी तस्वीर

रवींद्रनाथ टैगोर ने अपने जीवन के अंतिम चार वर्ष लगातार दर्द में बिताए और बीमारी के दो लंबे दौर से जूझ रहे थे। 1937 में, वह एक बेहोशी की स्थिति में चले गए,

जो तीन साल की अवधि के बाद फिर से शुरू हो गया। एक विस्तारित अवधि की पीड़ा के बाद, 7 अगस्त, 1941 को उसी जोरासांको हवेली में टैगोर की मृत्यु हो गई, जिसमें उनका पालन-पोषण हुआ था।

रवींद्रनाथ टैगोर की विरासत ( Rabindranath Tagore Legacy )

चूंकि रवींद्रनाथ टैगोर ने बंगाली साहित्य को देखने के तरीके को बदल दिया, इसलिए उन्होंने कई लोगों पर एक गहरी छाप छोड़ी। 

कई देशों में उनकी कई प्रतिमाओं और मूर्तियों के अलावा, कई वार्षिक कार्यक्रम महान लेखक को श्रद्धांजलि देते हैं। कई प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय लेखकों द्वारा कई अनुवादों के लिए धन्यवाद, उनके कई कार्यों को अंतरराष्ट्रीय बनाया गया था। 

टैगोर को समर्पित पांच संग्रहालय हैं। इनमें से तीन भारत में स्थित हैं, जबकि शेष दो बांग्लादेश में हैं। संग्रहालयों में उनकी प्रसिद्ध रचनाएँ हैं, और हर साल लाखों लोग उन्हें देखने आते हैं।

FAQ

रबीन्द्रनाथ टैगोर को भारत रत्न कब मिला ?

रबीन्द्रनाथ टैगोर को भारत साल 1954 में मिला।

रवींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु कब हुई थी ?

रवींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु 7 अगस्त 1941 को हुई थी।

रविंद्र नाथ टैगोर के पिता का क्या नाम था ?

रविंद्र नाथ टैगोर के पिता का नाम देवेन्द्रनाथ टैगोर था।

रविंद्र नाथ टैगोर का इतिहास क्या है ?

रवींद्रनाथ टैगोर एक कवि, कथाकार , उपन्यासकार , नाटककार , निबन्धकार ,चित्रकार और कलाकार थे, जिन्होंने 19वीं सदी के अंत और 20वीं सदी की शुरुआत में संगीत, बंगाली साहित्य और भारतीय कला को फिर से तैयार किया। 

रविंद्र नाथ टैगोर ने क्या लिखा था ?

रविंद्र नाथ टैगोर ने बांग्ला भाषा में ‘जन गण मन’ लिखा था।

रविंद्र नाथ टैगोर को 1913 में कौन सा पुरस्कार मिला ?

रविंद्र नाथ टैगोर को 1913 में साहित्य में नोबेल  पुरस्कार मिला था।

रवींद्रनाथ ठाकुर को 1913 में कौन सा सर्वोच्च पुरस्कार प्राप्त हुआ ?

रवींद्रनाथ ठाकुर को 1913 में साहित्य में सर्वोच्च नोबेल पुरस्कार प्राप्त हुआ।

रविंद्र नाथ टैगोर कैसे मरे ?

वर्षों पुराने दर्द और लंबे समय से चली आ रही बीमारी के बाद, टैगोर का 80 वर्ष की आयु में 7 अगस्त 1941 को निधन हो गया। 

रविंद्रनाथ टैगोर जी ने कौन से विद्यालय की स्थापना की ?

रविंद्रनाथ टैगोर जी ने 1921`शान्ति निकेतन विद्यालय की स्थापना की।

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म कब हुआ था ?

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म रवींद्रनाथ ठाकुर के रूप में 7 मई, 1861 को देबेंद्रनाथ टैगोर और शारदा देवी के यहाँ कलकत्ता, बंगाल प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत (वर्तमान कोलकाता, पश्चिम बंगाल, भारत) में हुआ था। 

रविंद्र नाथ टैगोर को नाइटहुड की उपाधि कब दी गई थी ?

साल 1915 में रविंद्र नाथ टैगोर को ब्रिटिश प्रशासन की ओर से ‘नाइट हुड’ की उपाधि दी थी

रविंद्र नाथ टैगोर ने राष्ट्रगान कब लिखा?

रविंद्र नाथ टैगोर ने राष्ट्रगान 27 दिसंबर, 1911 में गाया गया था और 24 जनवरी 1950 को इसे भारतीय राष्ट्रगान के रूप में अपना लिया था।

यह भी जानें :-

अंतिम कुछ शब्द –

दोस्तों मै आशा करता हूँ आपको ”रवींद्रनाथ टैगोर का जीवन परिचय,कविता ।Rabindranath Tagore Biography in Hindi” वाला Blog पसंद आया होगा अगर आपको मेरा ये Blog पसंद आया हो तो अपने दोस्तों और अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करे लोगो को भी इसकी जानकारी दे

अगर आपकी कोई प्रतिकिर्याएँ हे तो हमे जरूर बताये Contact Us में जाकर आप मुझे ईमेल कर सकते है या मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है जल्दी ही आपसे एक नए ब्लॉग के साथ मुलाकात होगी तब तक के मेरे ब्लॉग पर बने रहने के लिए ”धन्यवाद

283272931b5637e84fd56e27df3beb17?s=250&d=mm&r=g
x