बाबा रामदेव का जीवन परिचय। Baba Ramdev Biography In Hindi

बाबा रामदेव का जीवन परिचय।Baba Ramdev Biography in Hindi

बाबा रामदेव महाराज जीवन परिचय, जीवनी ,बायोग्राफी , ताजा खबर, विवाद बयान, कमाई, आयुर्वेदिक ईलाज, घरेलू, योगासन (Baba Ramdev biography in hindi , ramdev baba history ,baba ramdev ayurvedic hospital haridwar ,Latest News, Controversy, desi nuskhe Net Worth, Age, Weight, Height)

बाबा रामदेव एक भारतीय योग गुरु हैं। उन्हें आयुर्वेद, कृषि, व्यवसाय, राजनीति आदि में उनके काम के लिए भी जाना जाता है। वे अपने सहयोगी आचार्य बालकृष्ण के साथ पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के सह-संस्थापक हैं। 

वह भारत और विदेशों में एक प्रसिद्ध व्यक्तित्व हैं। रामदेव ने योग को दुनिया भर में बहुत लोकप्रिय बनाने में मदद की है।

बाबा रामदेव का जीवन परिचय

नाम (Name)रामकृष्ण यादव
निक नेम ( Nickname )बाबा रामदेव, योग गुरु
जन्म तारीख (Date of Birth25 दिसंबर 1965
जन्म स्थान( Birth Place)सैयद अलीपुर, कस्बा-नांगल चौधरी, जिला-महेन्द्रगढ़, हरियाणा, भारत
उम्र (Age)56 साल (साल 2021 में )
स्कूल (School ) गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार
गृह नगर Home Townसैयद अलीपुर, कस्बा-नांगल चौधरी, जिला-महेन्द्रगढ़, हरियाणा, भारत
नागरिकता Nationalityभारतीय
धर्म Religionहिन्दू
राशि (Zodiac)मकर
शौक (Hobbies)योग करना
लम्बाई (Height)5 फीट 8 इंच
वजन (Weight)65 कि० ग्रा०
आँखों का रंग (Eye Color)भूरा
बालो का रंग( Hair Color)काला
व्यवसाय(Professions)योग गुरु, व्यापारी
राजनीती पार्टी (Political Party)थमिझागा मुनेत्र मुन्नानी
वैवाहिक स्थिति Marital Statusअविवाहित
संपत्ति (Net worth )₹25600 करोड़ (पतंजलि योगपीठ के अनुसार)

बाबा रामदेव का जन्म एवं प्रारंभिक जीवन (Born & Early life )

बाबा रामदेव का जन्म 25 दिसंबर 1965 हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले के सैयद पुर गांव में पिता रामनिवास यादव और माँ गुलाबो देवी के घर हुआ था। उनके माता-पिता दोनों किसान थे। उनका एक भाई राम भारत है जो पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड की एक फर्म के सीईओ हैं।उनके माता-पिता के अनुसार, वह बचपन में बहुत शांत स्वभाव के थे।

जब रामदेव केवल 6 वर्ष के थे, तब वह अपनी बहन के साथ खेलते हुए छत से गिर गए थे। उसके सिर में चोट आई और काफी देर तक खून बह रहा था। वह लगभग मर चुका था, हालांकि, दवा के बाद, वह जल्द ही ठीक हो गया।

जब वह 7 साल के हुए तो उसे अपने दोस्तों के साथ तालाब में खेलते हुए गलती से तालाब के गहरे पानी में चले गए थे और उसमे डूबने लगे बच्चों की चीख-पुकार सुनकर एक ग्रामीण ने उसे बचा लिया।

बचपन में वे मोटापे से पीड़ित थे। ज्यादा वजन होने की वजह से हर कोई उन्हें चिढ़ाता था। जब वे 8 साल के थे, उनकी पूरी त्वचा पर फोड़े हो गए और चलने में कठिनाई का सामना करना पड़ा, तब उन्होंने इस समस्या को दूर करने के लिए योग का अभ्यास करना शुरू कर दिया।

जब वे स्कूल में थे तो उनकी क्लास में रामदेव का एक टीचर धूम्रपान करता था जिससे रामदेव चिढ़ जाते थे। उस समय वे उस शिक्षक को धूम्रपान छोड़ने के लिए नहीं कह सकते थे लेकिन बाद में जब वे संत बने तो शराब और तंबाकू पर भाषण देते हुए वह किस्सा दूसरे लोगों को सुनाया करते थे। एक दिन उनके पास एक पत्र आया जिसमें लिखा था कि उनके शिक्षक ने अब धूम्रपान छोड़ दिया है।

बचपन में, उन्हें एक लकवा का दौरा पड़ा, जिससे उनके शरीर का बायां हिस्सा प्रभावित हुआ। वह इससे चमत्कारी ढंग से ठीक होने का श्रेय योग को देते हैं।

बाबा रामदेव की शिक्षा ( Baba Ramdev Education )

उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा अपने गृहनगर में प्राप्त की और 8 वीं कक्षा तक अध्ययन किया उसके बाद वे संस्कृत और योग का अध्ययन करने के लिए खानपुर गांव के एक गुरुकुल में शामिल हो गए और बाद में उन्होंने जींद जिले की यात्रा की और कलवा गुरुकुल में शामिल हो गए।   पूरे हरियाणा के ग्रामीणों को मुफ्त योग प्रशिक्षण दिया।

उन्होंने योग, भारतीय शास्त्रों और संस्कृत का अध्ययन किया। यहीं उन्होंने संन्यासी (मठवासी रहने वाले) बनने का फैसला किया। स्वामी शंकरदेवजी महाराज के मार्गदर्शन में सन्यासी बनने के बाद उन्होंने “बाबा रामदेव” नाम अपनाया।

वह गुरुकुल कलवा में आचार्य बलदेव जी के छात्र थे और उन्होंने आर्य समाजी गुरु करणवीर से योग सीखा। वह पुरानी किताबों के जरिए पढाई करते थे और हमेशा कक्षा में प्रथम आते थे । 

वह पुस्तकों को इतना साफ रखते थे कि उनकी पुस्तकों को बाजार मूल्य से अधिक कीमत पर बेच सकता था।

बाबा रामदेव ने अपने जीवन के कई साल प्राचीन भारतीय शास्त्रों का अध्ययन करने और ध्यान और आत्म अनुशासन का अभ्यास करने में बिताए।

बाबा रामदेव का परिवार ( Baba Ramdev Family)

पिता का नाम (Father’s Name)रामनिवास यादव
माता का नाम (Mother’s Name)गुलाबो देवी
बहन का नाम (Sister’s Name)राम भारत

बाबा रामदेव के योग की शुरुआत ( Yog & Ramdev Baba history )

अपनी संस्कृत व योग की शिक्षा पूरी करने के बाद बाबा रामदेव कुछ अलग करना चाहते थे और अपनी इसी चाहत के लिए उन्होंने  स्वामी रामतीर्थ की तरह ही मात्र 25 साल की उम्र में अपने माता पिता ,भाई सबको हमेशा के लिए त्यागकर अपनी युवावस्था में ही सन्यास लेने का निर्णय लिया और रामकृष्ण से रामदेव बनकर उन्होंने एक योगगुरु बनकर अपने नये जीवन की शुरुआत की।

साल 1955 में उन्होंने दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट की स्थापना की और योग एवं आयुर्वेद को पूरे विश्व में लोकप्रिय बनाने के ऊपर काम करना शुरू कर दिया। और लोगो तक योग की शिक्षा पहुंचाने के लिए कठिन परिश्रम करना शुरू कर दिया और यही से उनके योगगुरु बनने की कहानी शुरू हुई।

कालवा गुरुकुल, जींद में लोगो को निशुल्क योग सिखाया और उसके बाद वे तीन साल मोक्ष की तलाश में गंगोत्री के पास हिमालय में चले गए।

फिर वे  उत्तराखंड के शहर हरिद्वार चले गए, जहाँ उन्होंने आत्म-अनुशासन और ध्यान का अभ्यास किया, और कई वर्षों तक गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय में प्राचीन भारतीय शास्त्रों का अध्ययन किया।

बाबा रामदेव का योग शिविर ( Baba Ramdev yoga Shivir Haridwar )

जब वह हिमालय से वापस आये तो उन्होंने साल 1995 में हरिद्वार में एक “दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट” की स्थापना की।जहां रामदेव एक सभागार में सुबह और शाम योग का अभ्यास करते हैं और सिखाते हैं।

बाबा रामदेव को जल्द से जल्द कम समय में ज्यादा लोगो तक योग को पहुंचाने के लिए योगा शिविर की शुरुआत करनी पड़ी थी।

उसके लिए उन्होंने साल 2003 में आस्था टीवी ने उन्हें सुबह के योग स्लॉट में दिखाना शुरू किया। वहां वह टेलीजेनिक साबित हुआ और उसे बड़ी संख्या में फॉलो किया गया। यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान सहित कुछ विदेशी देशों में भी उनके छात्र थे।

उनके योग शिविरों में भारत और विदेशों की कुछ मशहूर हस्तियों सहित बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए जिनमे से मुख्य अभिनेता अमिताभ बच्चन एवं शिल्पा शेट्टी शामिल है।

बाबा रामदेव का योग पुरे भारत में इतना प्रसिद्द हुआ की भारत में 21 जून को अन्तराष्ट्रीय योग दिवस मनाने की शुरुवात की गई।

पतंजलि योगपीठ संस्था (Patanjali Yogpeeth Trust )

उत्तराखंड के पावन शहर में साल 2006 को ऋषि पतंजलि के नाम पर बाबा रामदेव ने पतंजलि योगपीठ संस्था की नींव रखी थी। इसका संस्था का मुख्य उद्देश्य लोगो को योग और आयुर्वेद का ज्ञान देना है। पतंजलि योगपीठ ट्रस्ट, रामदेव द्वारा शुरू किया गया एक गैर-लाभकारी संगठन है 

आचार्य बालकृष्ण पतंजलि योगपीठ के महासचिव हैं और बाबा रामदेव पतंजलि योगपीठ के कुलपति हैं।

भारत में इसके 2 परिसर है जहां पर लोगो को

  • पतंजलि योगपीठ 1
  • पतंजलि योगपीठ 2

पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurved)

एक कंपनी के एक अधिकारी के मुताबिक साल 2016 तक आते आते कंपनी का सालाना टर्नओवर  ₹ 4,500 करोड़ हो चुका था। पतंजलि के भारत में आने के बाद विदेशी कंपनियों की हालत ख़राब हो गई थी। बाबा रामदेव को देखम देख अब विदेशी कंपनिया भी अपने सामान को आयुर्वेदिक बना कर बेचने लग गई है।

बाबा रामदेव के पास पतंजलि का 1 % भी शेयर मौजूद नहीं है बल्कि आचार्य बालकृष्ण 94 % शेयरधारिता के साथ पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ बने हुए हैं और अपनी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों की निगरानी करते हैं, जबकि रामदेव कंपनी का चेहरा बने हुए हैं और अधिकांश व्यावसायिक निर्णय लेते हैं

बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि घर की जरूरत का ज़्यदातर सामान जैसे राशन, बिस्किट, चोकलेट, पेस्ट, शैम्पू, आचार, पापड़, मुरब्बा, सौन्दर्य प्रशादन का समान, फ्रूटी, पेय पदार्थ आदि के अलावा बहुत सारा सामानो का उत्पादन एवं बिक्री करती। है

बाबा रामदेव के विवाद (Baba Ramdev Controversies)

  • 2006 में, उन्होंने यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया कि ब्रेक लगाने के लिए यौन शिक्षा को योग शिक्षा से बदल दिया जाना चाहिए।
  • 2011 में, उन्होंने भ्रष्टाचार के लिए मौजूदा सरकार का विरोध किया। उसे हिरासत में लेने के लिए पुलिस और आरएएफ ने उसके अनुयायियों पर लाठीचार्ज (बैटन चार्ज) किया। वह दिल्ली के रामलीला मैदान में महिलाओं के कपड़े पहनकर मंच से कूद गया।
  • 2013 में, उन्हें एक अज्ञात कारण के लिए हवाई अड्डे के प्राधिकरण द्वारा लंदन के हीथ्रो हवाई अड्डे पर आठ घंटे के लिए हिरासत में लिया गया था।
  • जब फिल्म, पीके रिलीज़ हुई, तो उन्होंने हिंदू धर्म की खराब छवि को चित्रित करने के लिए फिल्म की निंदा की।
  • दिसंबर 2016 में, हरिद्वार की एक अदालत ने उनकी पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड पर गलत ब्रांडिंग और भ्रामक विज्ञापन दिखाने के लिए 11 लाख रुपये का जुर्माना लगाया। 

बाबा रामदेव की संपत्ति  (Baba Ramdev Net Worth)

कुल संपत्ति (Net Worth 2021)$ 190 मिलियन
कुल संपत्ति रुपयों में (Net Worth In Indian Rupees)1400 करोड़ रूपये से ज्यादा
मासिक आय (Monthly Income )रु. 50 लाख
सैलरी (Salary )5 करोड़ से ज्यादा

FAQ

बाबा रामदेव का आश्रम कहाँ है ?

बाबा रामदेव का आश्रम हरिद्वार में है

पतंजलि योगपीठ ट्रस्ट की स्थापना कब हुई ?

पतंजलि योगपीठ ट्रस्ट की स्थापना साल 2006 में हुई थी।

बाबा रामदेव का डेट ऑफ बर्थ क्या है ?

बाबा रामदेव का डेट ऑफ बर्थ 25 दिसंबर 1965 है।

यह भी जानें :-

अंतिम कुछ शब्द –

दोस्तों मै आशा करता हूँ आपको “बाबा रामदेव का जीवन परिचय। Baba Ramdev Biography in Hindi” वाला Blog पसंद आया होगा अगर आपको मेरा ये Blog पसंद आया हो तो अपने दोस्तों और अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करे लोगो को भी इसकी जानकारी दे

अगर आपकी कोई प्रतिकिर्याएँ हे तो हमे जरूर बताये Contact Us में जाकर आप मुझे ईमेल कर सकते है या मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है जल्दी ही आपसे एक नए ब्लॉग के साथ मुलाकात होगी तब तक के मेरे ब्लॉग पर बने रहने के लिए ”धन्यवाद

283272931b5637e84fd56e27df3beb17?s=250&d=mm&r=g