गुरु नानक देव का जीवन परिचय |Guru Nanak Dev History In Hindi

गुरु नानक देव का जीवन परिचय |Guru Nanak Dev ji History in Hindi

publish your own biography on shubhamsirohi.com @ 2499 /- rs

गुरु नानक देव का जीवन परिचय ,जयंती ,की जीवनी ,इतिहास ,कहानी ,निबंध ,जाति ,धर्म ,मृत्यु ,निधन (Guru Nanak Dev ji Biography In Hindi, history ,Age,birth ,family , education , essay ,Guru Nanak Jayanti , Gurupurab, Happy GuruParv ,Caste, family ,Career, history of Guru Nanak Dev ji in hindi, story ,Death )

गुरु नानक देव को नए धर्म यानी सिख धर्म का संस्थापक माना जाता था और वे सिखों के पहले गुरु थे। वह एक महान भारतीय आध्यात्मिक नेता थे।

उनकी शिक्षाएं के प्रति उनकी भक्ति का तरीका दूसरों से अलग था और सभी धर्मों के लोग उनका और उनकी शिक्षाओं का सम्मान करते हैं।

इस बार 19 नवंबर 2021 को गुरुपुरब गुरुनानक देव के जन्मदिन की खुशियाँ ,महोत्सव एवं सिखो के द्वारा त्यौहार मनाया जायेगा। जानिए पूरी कहानी गुरुपुरब के बारे में

उन्होंने ऐसे समय में मानवता और मानव जाति का संदेश फैलाया जब हर कोई अपने धर्म के प्रसार पर ध्यान केंद्रित कर रहा था। उन्होंने महिलाओं और उनके अधिकारों और समानता के बारे में बात की।

वह एक महान विद्वान थे लेकिन फिर भी उन्होंने चारों दिशाओं में यात्रा करते हुए लोगों के बीच अपना संदेश फैलाने के लिए स्थानीय भाषाओं का इस्तेमाल किया।

guru nanak
गुरु नानक देव

गुरु नानक देव का जीवन परिचय

Table of Contents

नाम (Name )नानक
सिख धर्म में नाम (Sikh Religions Name )गुरु नानक देव
निक नेम (Nick Name )बाबा नानक
प्रसिद्द (Famous for )सिख धर्म के संस्थापक
जन्म तारीख (Date of birth)15 अप्रैल 1469
जन्म स्थान (Place of born )तलवण्डी गाँव , लाहौर ,पाकिस्तान
गृहनगर (Hometown )तलवण्डी गाँव , लाहौर ,पाकिस्तान
मृत्यु तिथि (Date of Death ) 22 सितंबर 1539
मृत्यु का स्थान (Place of Death)करतारपुर , पाकिस्तान 
स्मारक समाधि (Memorial tomb)करतारपुर , पाकिस्तान 
उम्र( Age)70 वर्ष (मृत्यु के समय )
कार्यकाल (Guruship)साल 1499–साल 1539 तक
धर्म (Religion)सिख
जाति (Caste )खत्रीकुल
नागरिकता(Nationality)सिख
पूर्वाधिकारी (Predecessor )स्वम जन्म से
उत्तराधिकारी (Successor)गुरु अंगद देव
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)  शादीशुदा

गुरु नानक देव का जन्म  (Guru Nanak Dev Birth)

कवि और सिख धर्म के संस्थापक नानक देव जी का जन्म (Guru Nanak Dev ji Birthday ) 15 अप्रैल 1469 में पंजाब के लाहौर जिले में रावी पर तलवंडी गाँव में हुआ था।  जिस घर में गुरु नानक का जन्म हुआ था, उसके एक तरफ अब ‘ननकाना साहिब’ नामक प्रसिद्ध मंदिर है।  जो आज के पाकिस्तान के क्षेत्रों में स्थित है।

नानक को ‘पंजाब और सिंध का पैगंबर’ कहा गया है। नानक के पिता मेहता कालू चंद थे, जिन्हें कालू के नाम से जाना जाता था। वह गांव का लेखापाल था। वे एक कृषक भी थे। नानक की माता का नाम तृप्ता देवीथीं। 

उन्होंने अपना अधिकांश बचपन अपनी बड़ी बहन बेबे नानकी के साथ बिताया, क्योंकि वह उनसे प्यार करते थे।नानक की इकलौती बहन नानकी उनसे पांच साल बड़ी थीं। साल 1475 में, उसने शादी की और सुल्तानपुर चली गई ।

गुरु नानक देव का परिवार (Guru Nanak Family )

पिता का नाम (Father)लाला कल्याण राय (मेहता कालू जी),
माँ का नाम (Mother )तृप्ता देवी
बहन का नाम (Sister )नानकी देवी
पत्नी का नाम (Wife )सुलखनी  देवी
बच्चो के नाम (Children )श्रीचन्द एवं  लखमीदास

गुरु नानक देव की शादी (Guru Nanak Marriage)

गुरु नानक देव का विवाह 24 सितंबर 1487 में बालपन मे सोलह साल की उम्र में गुरदासपुर जिले के लाखौकी नामक स्थान के रहनेवाले मूला की बेटी सुलखनी  देवी से हुआ था। 

32 साल की उम्र में इनके यहां पहला बीटा श्रीचन्द का जन्म हुआ। चार साल के बाद दूसरे बेटे लखमीदास का जन्म हुआ।

दोनों लड़कों के जन्म के बाद साल  1507 में नानक देव जी अपने परिवार की जिम्मेदारी ईस्वर पर छोड़कर मरदाना, लहना, बाला और रामदास इन चार साथियों को लेकर तीर्थयात्रा के लिये निकल पडे़। गुरुनानक के पहले बेटे ‘श्रीचन्द आगे चलकर उदासी सम्प्रदाय के जनक बने।

गुरुनानक सुल्तानपुर में, वह स्नान करने और ध्यान करने के लिए पास की एक नदी में जाते थे । एक दिन वह वहाँ गये और तीन दिन तक नहीं लौटे । जब वह लौटे , तो वह एक असामान्य इंसान की तरह लग रहे थे और जब उसने बात की, तो उन्होंने बोलै , “कोई हिंदू या मुस्लिम नहीं है”। इन शब्दों को उनकी शिक्षाओं की शुरुआत माना जाता था।

गुरु नानक देव की पांच यात्राएं (Guru Nanak Five Journeys)

उन्होंने ईश्वर के संदेश को पूरी दुनियाँ में फैलाने के लिए उपमहाद्वीप में प्रमुख रूप से चार आध्यात्मिक यात्राएं कीं। सबसे पहले वह अपने माता-पिता के पास गए और उन्हें इन यात्राओं का महत्व बताया और फिर उन्होंने यात्रा शुरू की।

नानक इस दुनिया में सत्तर साल तक रहे। वह जगह-जगह घूमता रहा। वह गुजरांवाला जिले के सैय्यदपुर गए थे। इसके बाद वे कुरुक्षेत्र, हरिद्वार, वृंदावन, वाराणसी, आगरा, कानपुर, अयोध्या, प्रयाग, पटना, राजगीर, गया और पुरी के लिए रवाना हुए।

 उन्होंने पूरे भारत की यात्रा की। उन्होंने चार व्यापक दौरे किए। वे श्रीलंका, म्यांमार, मक्का और मदीना भी गए। उन्होंने बंगाल, दक्कन, श्रीलंका, तुर्की, अरब, बगदाद, काबुल, कंधार और सियाम की यात्रा की।

 उन्होंने पंडितों और मुस्लिम पुजारियों के साथ विवाद किया। उन्होंने गया, हरिद्वार और अन्य तीर्थ स्थलों के पंडों से वाद-विवाद किया

  • पहली यात्रा में उन्होंने पाकिस्तान और भारत के अधिकांश हिस्सों को कवर किया और इस यात्रा में लगभग 7 साल लगे यानि साल 1500 से साल 1507 तक।
  • दूसरी यात्रा में उन्होंने वर्तमान श्रीलंका के अधिकांश हिस्सों को कवर किया और इसमें 7 साल भी लगे।
  • तीसरी यात्रा में उन्होंने हिमालय, कश्मीर, नेपाल, सिक्किम, तिब्बत और ताशकंद जैसे पर्वतीय क्षेत्रों को कवर किया। यह यात्रा साल 1514 से साल 1519 तक चली और इसे पूरा होने में लगभग 5 साल लगे।
  • चौथी यात्रा में उन्होंने मक्का और मध्य पूर्व के अन्य स्थानों का दौरा किया और इसमें 3 साल लग गए।
  • पांचवी यात्रा में उन्होंने दो साल तक पंजाब में संदेश फैलाया। ऐसा माना जाता है कि उन्होंने अपने जीवन के लगभग 24 वर्ष इन यात्राओं में बिताए और पैदल ही लगभग 28,000 किमी की यात्रा की।

गुरु नानक देव की शिक्षा (Guru Nanak Teachings)

उन्होंने लोगों को सिखाया कि भगवान तक पहुंचने के लिए हमें किसी अनुष्ठान और पुजारियों की आवश्यकता नहीं है। भगवान को पाने के लिए उन्होंने लोगों से भगवान का नाम जपने को कहा। उन्होंने लोगों को दूसरों की मदद और सेवा करके आध्यात्मिक जीवन जीना सिखाया।

उन्होंने उन्हें किसी भी तरह की धोखाधड़ी या शोषण से दूर रहने और एक ईमानदार जीवन जीने के लिए कहा। मूल रूप से, अपनी शिक्षाओं के माध्यम से उन्होंने नए धर्म यानी सिख धर्म के तीन स्तंभों की स्थापना की जिनका उल्लेख नीचे किया गया है:

नाम जपना: इसका अर्थ है भगवान के नाम को दोहराना और भगवान के नाम और उनके गुणों का अध्ययन करने के साथ-साथ गायन, जप और जप जैसे विभिन्न तरीकों से ध्यान के माध्यम से भगवान के नाम का अभ्यास करना।

किरत करणी: इसका सीधा सा मतलब है ईमानदारी से कमाई करना। उन्होंने उम्मीद की कि लोग गृहस्थों का सामान्य जीवन जीएं और अपने शारीरिक या मानसिक प्रयासों के माध्यम से ईमानदारी से कमाएं और हमेशा सुख और दुख दोनों को भगवान के उपहार और आशीर्वाद के रूप में स्वीकार करें।

वंद चकना: इसका सीधा सा मतलब है एक साथ बांटना और उपभोग करना। इसमें उन्होंने लोगों से अपनी संपत्ति का कुछ हिस्सा समुदाय के साथ बांटने को कहा। वंद चकना का अभ्यास करना सिख धर्म का एक महत्वपूर्ण स्तंभ है जहां हर सिख समुदाय के साथ अपने हाथों में जितना संभव हो उतना योगदान देता है।

गुरु नानक देव की रचनाये (Guru Nanak Teachings)

  • जपु जी
  • झूठी देखी प्रीत
  • को काहू को भाई
  • जो नर दुख में दुख नहिं मानै
  • सूरा एक न आँखिए
  • राम सुमिर, राम सुमिर
  • सब कछु जीवित कौ ब्यौहार
  • हौं कुरबाने जाउँ पियारे
  • मुरसिद मेरा मरहमी
  • काहे रे बन खोजन जाई
  • प्रभु मेरे प्रीतम प्रान पियारे
  • अब मैं कौन उपाय करूँ
  • या जग मित न देख्यो कोई
  • जो नर दुख में दुख नहिं माने
  • यह मन नेक न कह्यौ करे

गुरु नानक देव की मृत्यु (Guru Nanak Death )

55 वर्ष की आयु के आसपास, नानक सितंबर 1539 में अपनी मृत्यु तक वहां रहते हुए करतारपुर में बस गए । इस अवधि के दौरान, वे अचल के नाथ योगी केंद्र और पाकपट्टन और मुल्तान के सूफी केंद्रों की छोटी यात्राओं पर गए । 

अपनी मृत्यु के समय तक, नानक ने पंजाब क्षेत्र में कई अनुयायियों को प्राप्त कर लिया था , हालांकि मौजूदा ऐतिहासिक साक्ष्यों के आधार पर उनकी संख्या का अनुमान लगाना कठिन है।

गुरु नानक ने भाई लहना को उत्तराधिकारी गुरु के रूप में नियुक्त किया , उनका नाम बदलकर गुरु अंगद रखा , जिसका अर्थ है “किसी का अपना” या “आप का हिस्सा”। 

अपने उत्तराधिकारी की घोषणा करने के कुछ समय बाद, गुरु नानक की मृत्यु 22 सितंबर 1539 को करतारपुर में 70 वर्ष की आयु में हुई। गुरु नानक का शरीर कभी नहीं मिला। 

FAQ

गुरु नानक देव का जन्म कहाँ हुआ ?

नानक देव जी का जन्म 15 अप्रैल 1469 में पंजाब के लाहौर जिले में रावी पर तलवंडी गाँव में हुआ था।

गुरु नानक जी का जन्म कौन से ग्राम में हुआ ?

गुरु नानक जी का जन्म पाकिस्तान के लाहौर जिले में रावी पर तलवंडी ग्राम में हुआ

बाबा गुरु नानक देव की प्रमुख शिक्षाएं क्या थी ?

बाबा गुरु नानक देव की प्रमुख शिक्षाएं  नाम जपो, किरत करो और वंड छको थी।

गुरु नानक मोह को जलाकर और घिस कर क्या बनाने को कहते हैं ?

गुरु नानक मोह को जलाकर स्याही बनाओ, बुद्धि को ही श्रेष्ठ काग़ज़ बनाओ, प्रेम की क़लम बनाओ और चित्त को लेखक।

गुरु नानक देव जी ने प्रभु तक पहुंचने का कौन सा सरल मार्ग बताया ?

गुरु नानक देव जी ने प्रभु तक पहुंचने का सबसे सरल मार्ग अवतरण बताया।

गुरु नानक देव जी के कितने बेटे थे ?

गुरु नानक देव जी के दो बेटे थे. जिनका नाम श्रीचन्द और लक्ष्मीचन्द था.

गुरु नानक देव का असली नाम क्या था ?

गुरु नानक देव का असली नाम नानक था।

गुरु नानक की पत्नी का नाम क्या था ?

गुरु नानक की पत्नी का नाम सुलखनी  देवी था।

गुरु नानक के माता पिता कौन थे ?

गुरु नानक के पिता का नाम लाला कल्याण राय (मेहता कालू जी) एवं माता का नाम तृप्ता देवी था

गुरु नानक देव का विवाह कब हुआ था ?

गुरु नानक देव का विवाह बालपन मे सोलह साल की उम्र में 24 सितंबर 1487 में गुरदासपुर जिले के लाखौकी नामक स्थान के रहने वाले मूला की बेटी सुलखनी  देवी से हुआ था। 

देव गुरु के रूप में कौन विख्यात है ?

देव गुरु के रूप में गुरु नानक देव विख्यात है।

गुरु नानक देव जी के पूर्वज कौन थे ?

गुरु नानक देव जी के पूर्वज पंजाब के शासक थे।

गुरु नानक देव की जाति क्या थी ?

गुरु नानक देव का जन्म खत्री कुल में हुआ था।

बेबे नानकी की शादी कौन से गांव में हुई थी ?

गुरु नानक की इकलौती बहन नानकी उनसे पांच साल बड़ी थीं। साल 1475 में, उसने शादी की और सुल्तानपुर चली गई ।

गुरुनानक की प्रमुख रचना का क्या नाम है ?

गुरुनानक की प्रमुख रचना निरबैर, अकाल मूरति, अजूनी, सैभं गुर प्रसादि है।

गुरु नानक देव जी को ज्ञान की प्राप्ति कब हुई ?

गुरु नानक देव जी को ज्ञान की प्राप्ति 22 सितंबर 1539 ई में हुई।

गुरु नानक जी की मृत्यु कब हुई थी ?

गुरु नानक जी की मृत्यु 22 सितंबर 1539 को हुई।

यह भी जानें :-

अंतिम कुछ शब्द –

दोस्तों मै आशा करता हूँ आपको ” गुरु नानक देव का जीवन परिचय |Guru Nanak Dev History in Hindi ” वाला Blog पसंद आया होगा अगर आपको मेरा ये Blog पसंद आया हो तो अपने दोस्तों और अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करे लोगो को भी इसकी जानकारी दे

अगर आपकी कोई प्रतिकिर्याएँ हे तो हमे जरूर बताये Contact Us में जाकर आप मुझे ईमेल कर सकते है या मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है जल्दी ही आपसे एक नए ब्लॉग के साथ मुलाकात होगी तब तक के मेरे ब्लॉग पर बने रहने के लिए ”धन्यवाद

283272931b5637e84fd56e27df3beb17?s=250&d=mm&r=g