रतन टाटा का जीवन परिचय | Ratan Tata Biography In Hindi

रतन टाटा का जीवन परिचय | Ratan Tata Biography in hindi

रतन टाटा जो टाटा समूह के पूर्व अध्यक्ष है. भारतीय उद्योगपति ,दूरदर्शी होने के साथ साथ एक परोपकारी वयक्ति भी है ये साल 1990 से 2012 तक टाटा समूह के अध्यक्ष भी थे.रतन टाटा आज किसी पहचान के मोहताज नहीं है.

रतन टाटा को बच्चे से बूढ़े तक सब जानते है. रतन टाटा, सभी प्रमुख कम्पनियों जैसे टाटा स्टील, टाटा मोटर्स, टाटा पावर, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, टाटा टी, टाटा केमिकल्स, इंडियन होटल्स और टाटा टेलीसर्विसेज के अध्यक्ष भी रहे । ये इतने दूरदर्शी से है की इन्होने घाटे में चल रही टाटा समूह की कम्पनियो को कई सालो की मेहनत और अपनी दूरदर्शिता की मदद से और अपने दम से मुनाफे में पहुचाया।

रतन टाटा बहुत ही शांत स्वभाव के वयक्ति है ये थोड़े से शर्मीले स्वाभाव के वयक्ति है ये बहुत ही सामान्य जीवन जीने वाले वयक्तियो में से है जो समाज की चमक धमक से दूर रहते है.

ये ऐसे वयक्ति है जो इतने धनवान होने के बाद भी कई सालों से मुम्बई के कोलाबा जिले में एक किताबों एवं कुत्तों से भरे हुये बेचलर फ्लैट में रह रहे हैं। इससे पता चलता है इनके स्वाभाव के बारे में की इनका व्यक्तित्व कितना आसमान्य और अतुल्य है. इनको अपनी जिंदगी में अपने परोपकारी कामो की वजह से अनगिनत पुरस्कार मिले है.

आज हम आपको उनकी जिंदगी के बारे में कुछ बेहतरीन और दिल छू जाने वाली जानकारिया देंगे।

रतन टाटा का जीवन परिचय

रतन टाटा जन्म, उम्र ,परिचय एवं संपत्ति(Birth, Age, , Introduction,Net Worth)

नाम Nameरतन टाटा
असली नाम Real Name रतन नवल टाटा
जन्म तारीख Date of Birth   28 दिसंबर 1937
उम्र Age83
जन्म स्थान Birth Placeसूरत , गुजरात
शिक्षा Education बी.एसडिग्री संरनात्मक इंजीनियरिंग एवं वास्तुकला में उन्नत प्रबंधन कार्यक्रम
राशि Zodiac Signतुला
गृह नगर Home Townमुंबई
नागरिकता Nationalityभारतीय
धर्म Religionपारसी
पेशा Professionटाटा समूह के रिटायर्ड अध्यक्ष
पुरस्कार (Awards) पदम भूषण, पदम विभूषण
वैवाहिक स्थिति Marital Statusअवैवाहिक


रतन टाटा का परिवार एवं शुरुआती जीवन(Ratan Tata Family & Early Life )

गुजरात के सूरत शहर में 28 दिसंबर 1937 को रतन टाटा का जन्म हुआ था. और इनके पिता का नाम  नवल टाटा है  । उनकी माता का नाम सूनू टाटा है जब रतन टाटा केवल 10 साल के थे तो इनके माता पिता अलग हो गए थे.उसके बाद दोनों भाइयों का लालन पालन उनकी दादी नवजबाई टाटा ने किया ।

 इनकी दादी बहुत दयालु थी, लेकिन अनुशासन के मामले में भी काफी सख्त थी इनका का एक सौतेला भाई भी है जिसका नाम नोएल टाटा है।बचपन में ये पियानो सीखते थे और क्रिकेट खेला करते थे ।


रतन टाटा की शिक्षा (Ratan Tata Education )

  • रतन टाटा ने 8 वीं कक्षा तक की शुरुवाती शिक्षा मुंबई  के कैंपियन स्कूल से प्राप्त की.
  • मुंबई के ही  कैथेड्रल और एंड जॉन कॉनन स्कूल , एवं शिमला के बिशप कॉटन स्कूल से इन्होने हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की पढ़ाई की
  • साल 1955 में  न्यूयॉर्क शहर के Riverdale Country School से इन्होने ग्रेजुएट की डिग्री हासिल की । 


रतन टाटा का करियर (Ratan Tata Career )

  • 1955 से 1962 तक अमेरिका में रहने के बाद वह अमेरिका से बहुत प्रभावित हुए । ये जब अमेरिका थे तो वो कैलिफोर्निया और वेस्ट कोस्ट की लाइफस्टाइल से इतने प्रभावित हो गए थे की उन्होंने लॉस एंजिल्स में ही रहने का फैसला कर लिया था
  • कुछ समय बाद उनकी दादी नवाजबाई की तबियत बिगड़ने लगी जिसके कारण उन्हें अमेरिका में बसने का सपना छोड़ के भारत आना पड़ा
  • जब ये भारत वापसआये IBM की जॉब थी लेकिन JRD टाटा इस बात से खुश नहीं थे उन्होंने साल 1962 में रतन टाटा को टाटा ग्रुप की कंपनी में काम करने की पेशकश की और इस तरह रतन टाटा का टाटा ग्रुप में आगमन हुआ.देश के इस सबसे बड़े टाटा ग्रुप से जुड़ने के बाद उन्होंने शुरू के दिनों में टाटा स्टील के शॉप फ्लोर पर काम किया,

अन्य पढ़े :

रतन टाटा का संघर्ष और सफलता – (Ratan Tata Success Story)

  • साल 1971 में इन्हे नेशनल रेडियो एंड इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी का डायरेक्टर इंचार्ज बनाया गया उस समय तक कंपनी घाटे में चल रही थी और बाजार में कंपनी की हिस्सेदार सिर्फ २% था और घटा 40 % था कुछ साल बाद रतन टाटा ने कंपनी को मुनाफे में पहुचाया और बाजार में कमपनी की हिस्सेदारी 20 % तक बढ़ा दी।
  • लेकिन इंदिरा गाँधी की सरकार ने आपातकालीन लागु कर दिया जिससे कंपनी को घाटा हुआ और इसके साथ साथ  टाटा को यूनियन की हड़ताल का सामना किया जिसके वजह से बाद में नेल्को कंपनी बंद करनी पड़ी।
  • कुछ समय बाद रतन टाटा को एक कपड़ा मिल (Empress Mills) सँभालने की जिम्मेदारी दी गयी । टाटा ग्रुप की यह कंपनी भी घाटे का सामना कर रही थी। जिसके बाद रतन टाटा ने इसे काफी संभालने की कोशिश की लेकिन इनको किसी कारण कंपनी की हालत सुधारने के लिए 50 लाख रुपयों की जरुरत तह लेकिन वो इन्हे नहीं मिल पाए और अंत में इस कंपनी को बंद कर दिया गया जिससे रतन टाटा बहुत दुखी हुए थे
  • कुछ सालो बाद इनकी दूरदर्शिता पहचानते हुए इन्हे जेआरडी टाटा ने टाटा ग्रुप का उत्तरादिकारी बनाने की घोषणा कर दी और 1991 में टाटा ग्रुप में रहते हुए अपने चाचा, जेआरडी टाटा के उत्तराधिकारी बने।
  • टाटा इंडस्ट्रीज की कमान सँभालते हीटाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने पब्लिक इशू जारी किया और टाटा मोटर्स को न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टकिया ।
  • सन 1998 में टाटा मोटर्स ने पहलीभारतीय यात्री कार टाटा इंडिका को बाजार में उतारा । 
  • रतन टाटा ने बहुत तेजी से टाटा ग्रुप को और बड़ा करने की योजना बनाई। इसी दूरदर्शिता के कारण साल 2000 में लंदन में मौजूद टेटली टी कंपनी को ख़रीदा उसके बाद , 2004 में इसने दक्षिण कोरिया के देवू मोटर्स के ट्रक बनाने वाली कंपनी को ख़रीदा।उसके 3 साल बाद ही टाटा ग्रुप ने  2007 में स्टील बनाने वाली कंपनी एंग्लो-डच को ख़रीदा ।रतन टाटा के कमान में टाटा ग्रुप दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा इस्पात उत्पादक कंपनी बन गयी ।

रतन टाटा का सपना टाटा नैनो (Ratan Tata Dream Nano Car )

रतन टाटा का ये सपना था की अपने देश भारत के लोगो के लिए सबसे सस्ती और किफायती कार को बाजार में लाये और यह सपना उनका पूरा भी हुआ. साल 2008 में टाटा मोटर्स ने सबसे सस्ती कार ”नैनो कार ”का नई दिल्ली में हो रहे ऑटो एक्सपो में इस का उद्घाटन किया जिसकी कीमत 1 लाख rs थी यानि की लगभग 2000$ है दिल्ली के

रतन टाटा का रिटायरमेंट (Ratan Tata Retirement )

  • 21 सालो तक रतन टाटा ने टाटा कम्पनी की कमान संभाली। रतन टाटा की नेर्तत्व्य में टाटा ग्रुप का बाजार में 40% तक हिस्सेदारी और 50 % तक मुनाफा बढ़ा।
  • 75 वर्ष की उम्र में रतन टाटा ने 28 दिसंबर 2012 को टाटा समूह से इस्तीफा दे दिया। उनके बाद साइरस मिस्त्री , शापूरजी पल्लोनजी समूह के पल्लोनजी मिस्त्री के 44 वर्षीय बेटे को टाटा ग्रुप की कमान सँभालने के लिए चुना ।
  • साल 2016 में साइरस मिस्त्री को किसी कारणवस कंपनी से निकाल दिया गया
  • रतन टाटा ने फिर से साल 2016 से 2017 तक टाटा ग्रुप की कमान सँभालने की जिम्मेदारी अपने कंधो पर ली.
  • साल 2017 में नटराजन चंद्रशेखरन को टाटा ग्रुप की जिम्मेदारी सौंपी गयी जिसे वे अभी तक संभाल है


रतन टाटा की उपलब्धियां एवं अवार्ड्स (Ratan Tata Awards & Achievements)

रतन टाटा को 2000 में पद्म भूषण और 2008 में पद्म विभूषण प्राप्त हुआ , जो भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला तीसरा और दूसरा सबसे ऊंचा नागरिक सम्मान है।

सालनामपुरस्कार देने वाला संगठन
2001Honorary Doctor of Business Administrationओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी
2005International Distinguished Achievement Awardबनाई ब्रिथ इंटरनेशनल
2008Honorary Citizen Awardसिंगापुर की सरकार
2010Oslo Business for Peace awardशांति फाउंडेशन के लिए व्यापार
2010Business for Peace Awardशांति फाउंडेशन के लिए व्यापार
2010Business Leader of the Yearएशियाई पुरस्कार ।
2012Grand Cordon of the Order of the Rising Sunजापान सरकार
2013Transformational Leader of the Decadeइंडियन अफेयर्स इंडिया लीडरशिप कॉन्क्लेव 2013
2013Honorary Doctor of Business Practiceकरनेगी मेलों विश्वविद्याल
2014Honorary Doctor of Businessसिंगापुर प्रबंधन विश्वविद्यालय
2015Sayaji Ratna Awardबड़ौदा प्रबंधन संघ, मानद कारण, एचईसी पेरिस
2016 Commander of the Legion of Honourफ्रांस की सरकार

रतन टाटा के बारे में रोचक तथ्य (Interesting Fact About Ratan Tata) –

1. 100 कंपनीयो के साथ टाटा ग्रुप विश्व में पांचवी सबसे बड़ी कंपनी है. टाटा चाय से लेकर 5 स्टार होटल तक, सूई से लेकर स्टील तक, नैनों कार से लेकर हवाई जहाज तकसब बेचते हैं

2. रतन टाटा को पालतू जानवरों से प्यार है उन्होंने अपना मुंबई वाला 400 करोड़ का बांग्ला पालतू कुत्तो की देख रेख के लिए दे रक्खा है दूसरा उन्हें प्लेन उड़ाना पसंद है उनके पास लाइसेंस भी है.

3. रतन टाटा अपने कर्मचारियों से बहुत प्यार करते है. टाटा में नौकरी करना सरकारी नौकरी से कम नही है.

4. रतन टाटा ने टाटा ग्रुप को अपने 21 साल दिए और इन 21 सालो में कंपनी को शिखर पर पहुंचा दिया. कंपनी की वैल्यू 50 गुना बढ़ा दी. .

. 5 .साल 2008 में 26/11 के दिन आतंकवादियो द्वारा मुंबई के ताज होटल पर किये गए हमले में ताज होटल में जितने भी लोग घायल हुए थे उन सबका इलाज टाटा ने ही कराया था.

6. 26/11 आतंकवादी हमले में होटल के आस-पास छोटी मोटी दुकान ठेला लगाने वाले जिन लोगो का नुकसान हुआ था उन सबकी मदद टाटा ने की.

7. 26/11 आतंकवादी हमले के दौरान ताज होटल जितने भी दिन बंद रहा उतने दिन की सैलरी कर्मचारियो को दी गयी थी

रतन टाटा के 7 बेस्ट इंस्पायरिंग थॉट्स (Ratan Tata Quotes in Hindi)

I don’t believe in taking right decisions. I take decisions and then make them right.

(मैं सही निर्णय लेने में विश्वास नहीं करता। मैं निर्णय लेता हूँ और फिर उन्हें सही साबित कर देता हूँ।)

If you want to walk fast, walk alone. But if you want to walk far, walk together.

(अगर आप तेजी से चलना चाहते हैं तो अकेले चलिए। लेकिन अगर आप दूर तक चलना चाहते हैं तो साथ मिलकर चलिए।)

 Ups and downs in life are very important to keep us going, because a straight line even in an ECG means we are not alive

(आगे बढ़ने के लिए जीवन में उतर-चढ़ाव बहुत ज़रूरी हैं, क्योंकि ईसीजी में भी एक सीधी लाइन का मतलब होता है कि हम जिंदा नहीं हैं।)

Power and wealth are not two of my main stakes.

(सत्ता और धन मेरे दो प्रमुख सिद्धांत नहीं हैं।)

The day I am not able to fly will be a sad day for me.

(जिस दिन मैं उड़ान नहीं भर पाऊंगा, वो मेरे लिए एक दुखद दिन होगा।)

There are many things that, if I have to relive, maybe I will do it another way. But I would not like to look back and think what I have not been able to.

(ऐसी कई चीजें हैं, जो अगर मुझे दोबारा जीने के मौका मिले तो शायद मैं अलग ढंग से करूँगा। लेकिन मैं पीछे मुड़कर ये नहीं देखना चाहूँगा कि मैं क्या नहीं कर पाया।)

None can destroy iron, but its own rust can! Likewise none can destroy a person, but its own mindset can!

(कोई लोहे को नष्ट नहीं कर सकता, लेकिन उसकी अपनी जंग कर सकती है! उसी तरह कोई किसी इंसान को बर्बाद नहीं कर सकता, लेकिन उसकी अपनी मानसिकता कर सकती है।)


रतन टाटा की कुल संपत्ति (Ratan Tata Net Worth)

अगर टाटा ग्रुप की सभी कंपनियों के मार्किट वैल्यू की बात करें तो टाटा ग्रुप की जितनी भी कंपनियां है उनका मार्किट वैल्यू 17 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया है ब्‍लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्‍स के मुताबिक उनकी कुल संपत्ति 117 बिलियन डॉलर यानी करीब 8.25 लाख करोड़ है.रतन टाटा अपनी संपत्ति का 65 % पैसा लोगो की सहायता के लिए दान कर देते है यही कारण है की वो दुनिया के सबसे अमीर वयक्ति नहीं है

अंतिम कुछ शब्द 

दोस्तों तो आशा करता हूँ आपको रतन टाटा का जीवन परिचय | Ratan Tata Biography in hindi|वाला Blog पसंद आया होगा अगर आपको मेरा ये Blog पसंद आया हो तो अपने दोस्तों और अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करे लोगो को भी इसकी जानकारी दे

अगर आपकी कोई प्रतिकिर्याएँ हे तो हमे जरूर बताये Contact Us में जाकर आप मुझे ईमेल कर सकते है या मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है जल्दी ही आप एक नए ब्लॉग के साथ मुलाकात होगी तब तक के मेरे ब्लॉग पर बने रहने के लिए ”धन्यवाद ”

283272931b5637e84fd56e27df3beb17?s=250&d=mm&r=g
x
Need Help?